वीराने..



वीराने..Copyright ©

नहीं चल रहा कुछ,
दिल के इन वीरानों में,
कि भला खंडहर भी,
कब से कहीं बसने लगे ?

वो तो हो लेती है,
कुछ गुफ्तगू तुमसे,

वरना,
चमगादड भी है कहाँ,
नसीब में,
इन वीरानों को..

जोगेन्द्र सिंह Jogendra Singh ( 30-06-2011 )
_____________________________________________

http://web-acu.com/

http://jogendrasingh.blogspot.com/
http://indotrans1.blogspot.com/
_____________________________________________
वीराने..SocialTwist Tell-a-Friend

Comments

2 Responses to “वीराने..”

1 July 2011 at 8:34 PM

akelepan ka bodh karati kavita... kya ismen kavi ka dukh numaya hai..

1 July 2011 at 8:54 PM

▬● अपर्णा जी , पता नहीं इसमें क्या नुमाया है पर आपका बहुत-२ आभार.........

(my business site ☞ Su-j Helth ☞ http://web-acu.com/ )

Post a Comment

Note : अपनी प्रतिक्रिया देते समय कृपया संयमित भाषा का इस्तेमाल करे।

▬● (my business sites..)
[Su-j Health (Acupressure Health)]http://web-acu.com/
[Su-j Health (Acupressure Health)]http://acu5.weebly.com/
.

Related Posts with Thumbnails