खुशियों का सौदागर




खुशियों का सौदागर

क्योंकर हो लेता है साथ कोई गम बढ़ाने के लिए...
खुदा बनकर आता है जो वही सौदागर निकल आता है...

जोगेंद्र सिंह Jogendra Singh ( 18-02-2011)
खुशियों का सौदागरSocialTwist Tell-a-Friend

Comments

4 Responses to “खुशियों का सौदागर”

Pallavi said...
20 January 2012 at 9:14 PM

बस केवल दो पंक्तियाँ ??? मगर सच लिखा है आपने ...समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका सवागत है http://mhare-anubhav.blogspot.com/

Jogendra Singh said...
25 January 2012 at 2:30 AM

▬● पल्लवी जी , धन्यवाद.....
जरूर आपके ब्लॉग पर भी आना है.....

28 January 2012 at 7:08 PM

कमाल की प्रस्तुति है आपकी.

Jogendra Singh said...
5 February 2012 at 6:16 PM

▬● संजय जी / धन्यवाद.......

Post a Comment

Note : अपनी प्रतिक्रिया देते समय कृपया संयमित भाषा का इस्तेमाल करे।

▬● (my business sites..)
[Su-j Health (Acupressure Health)]http://web-acu.com/
[Su-j Health (Acupressure Health)]http://acu5.weebly.com/
.

Related Posts with Thumbnails