गाथा ताजमहलों की

.
सब कहानी तुमने है कहाई....
जिसपे बीती उसने कहाँ है देखी...
गाथा ताजमहलों की क्या फर्क ला सकेंगीं....?
कुर्बान मुहब्बत पे खुद को कर क्या देख सकेंगे रांझे...? (जोगी)
▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬●
गाथा ताजमहलों कीSocialTwist Tell-a-Friend

Comments

One response to “गाथा ताजमहलों की”

Hamarivani said...
19 May 2011 at 11:07 AM

क्या आप हमारीवाणी के सदस्य हैं? हमारीवाणी भारतीय ब्लॉग्स का संकलक है.


अधिक जानकारी के लिए पढ़ें:
हमारीवाणी पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि

हमारीवाणी पर ब्लॉग प्रकाशित करने के लिए क्लिक कोड लगाएँ

Post a Comment

Note : अपनी प्रतिक्रिया देते समय कृपया संयमित भाषा का इस्तेमाल करे।

▬● (my business sites..)
[Su-j Health (Acupressure Health)]http://web-acu.com/
[Su-j Health (Acupressure Health)]http://acu5.weebly.com/
.

Related Posts with Thumbnails