फितरत ::: ©


 फितरत ::: ©

आईने पे न शिकन है न किरचें कहीं.. उसे तो बस किसी की फिकर नहीं..
कह देखो शायद सुन ले वो तुम्हें भी.. वर्ना चेहरे बदलना है फितरत उसकी..

__________________जोगी  :((

.
फितरत ::: ©SocialTwist Tell-a-Friend

Comments

2 Responses to “फितरत ::: ©”

23 December 2010 at 9:37 AM

इंसान की फितरत है जोगी भाई.....चेहरे बदलना

23 December 2010 at 2:42 PM

► प्रति भईया... आपका धन्यवाद .......

Post a Comment

Note : अपनी प्रतिक्रिया देते समय कृपया संयमित भाषा का इस्तेमाल करे।

▬● (my business sites..)
[Su-j Health (Acupressure Health)]http://web-acu.com/
[Su-j Health (Acupressure Health)]http://acu5.weebly.com/
.

Related Posts with Thumbnails