चिराग मन मेरा.. Copyright © 2011


चिराग मन मेरा.. Copyright © 2011
चिराग मन मेरा ,
मन से रौशन घर तुम्हारा ,
लपलपाती लौ पर बुझते पतंगे ,
अंतिम सांस लेती मेरे दिये की आत्मा ,
मरणासन्न उसका ईंधन ,
तुमसे विलग होने का भय ,
लपलपाहट को और बढ़ा देता है ,
उस भानु की भाँति ,
जो शाम के धुंधलके में ,
अंधकार पर विजित होने को ,
कमजोर से अंतिम प्रयास में ,
जो लिप्त रहता है परन्तु ,
अगला ही पल उसके लिए ,
जलजले सा अहसास ले आता ,

तुमसे विलग होना जैसे ,
प्रारब्ध सा ठोस जान पड़ता ,
क्षणों में फिर मेरा पड़ा होना ,
बुझे दिये सा किसी कूडेदान में ,
गली की बुहारन में ,
सवेरे मेरा बुहार दिया जाना ,
प्रभात के धुंधलके में ,
ओस युक्त नम हवा के बीच ,
तुम्हारे द्वार की झिर्री से ,
फिर छन कर आती नयी लकीर ,

कलेजा चाक था ,
कहने को कुछ ना था ,
सुप्त साँसों संग ,
गली के किसी किनारे में ,
बुहारिन की गाड़ी में पड़ा ,
फिर मिटटी हो जाने को तत्पर ,
जीने का अब वह चाव ना था ,
दर्द की लहर सी उठ रही ,
संभवतः कोई किनारा मेरे दिये का ,
भंगुर बना बैठा है ,
बुहारिन की निर्दयता ने उसे ,
भौंथरा और बेडौल बना दिया है ,

कुछ पल उपरांत शहर किनारे ,
किसी बरखा के इंतज़ार में पड़ा ,
फिर गलने की आस लिए ,
फिर ढलने को उन्मुख मन ,
हौले से हँस पड़े वे टुकड़े ,
जो पहले ही बिखरे थे मेरे गिर्द ,
कि पकी मिटटी से बना मन ,
वह टूटा पका ठोस दीपक ,
नए सांचे तक का सफर कैसे करे ,

स्वप्न अधूरा लिए ,
तुम्हारे द्वार से आ रही ,
उस नयी रौशनी के उदगम का ,
इंतज़ार करने लगा हूँ ,
जाने किस रात की सुबह ,
वह भी निकट पड़ा होगा ,

नेपथ्य से मध्यम सी उठती आवाज़ ,
मौत का गीत जो मेरे लिए था ,
पहले रोया फिर हँसकर गया मैंने भी ,
गीत गाते किया इंतज़ार उस नए दीपक का..!!

जोगेन्द्र सिंह Jogendra Singh (29 जनवरी 2011)
●●●▬▬▬▬●●●▬▬▬▬●●●▬▬▬▬●●●▬▬▬▬●●●
चिराग मन मेरा.. Copyright © 2011SocialTwist Tell-a-Friend

Comments

2 Responses to “चिराग मन मेरा.. Copyright © 2011”

वीना said...
30 January 2011 at 8:05 PM

बहुत सुंदर भाव हैं...और सच भी
अंतिम पंक्तियां बहुत अच्छी हैं....

30 January 2011 at 8:18 PM

► वीणा जी ,,, आपका धन्यवाद.....

Post a Comment

Note : अपनी प्रतिक्रिया देते समय कृपया संयमित भाषा का इस्तेमाल करे।

▬● (my business sites..)
[Su-j Health (Acupressure Health)]http://web-acu.com/
[Su-j Health (Acupressure Health)]http://acu5.weebly.com/
.

Related Posts with Thumbnails