हाँ यहीं तो हो तुम



हाँ यहीं तो हो तुम, और जा भी कहाँ सकती हो ...
तलाशते रहेंगे एक दूसरे में खुद को मगर ...
साये के साये में, साये को खोज पाएंगे कैसे ... ?
कोशिशें, तलाश, और यही ज़द्दोज़हद ढूंढ पाने की ...
जैसे खुद में दूसरा बाशिंदा बसा रखा हो हमने ...

गर हाथ थाम लेती जो तुम पास आकर मेरा ...
मौजूद साये को साये से अलहदा भी देख पाता ...
मगर ज़रूरत ही क्या तुम्हें अलहदा देखने की ...
तुम में समा कर मैं नज़र आता हूँ मैं से बेहतर ...

_____जोगेन्द्र सिंह Jogendra Singh ( 23 सितम्बर 2010 )

Photography by : Jogendra Singh

.
हाँ यहीं तो हो तुमSocialTwist Tell-a-Friend

Comments

6 Responses to “हाँ यहीं तो हो तुम”

23 September 2010 at 10:43 PM

खूबसूरती से कहे हैं जज़्बात ...

23 September 2010 at 11:06 PM

► संगीता जी ,,, धन्यवाद ...

24 September 2010 at 8:13 AM

bahut khoobsurat rachna rajender ji ....

24 September 2010 at 3:21 PM

► क्षितिजा जी , शुक्रिया ...

26 September 2010 at 2:53 PM

बहुत सुन्दर भावों को पिरोया है

ब्रह्माण्ड

27 September 2010 at 1:38 AM

@ राणा ,,, शुक्रिया मेरे भाई ........ :)

Post a Comment

Note : अपनी प्रतिक्रिया देते समय कृपया संयमित भाषा का इस्तेमाल करे।

▬● (my business sites..)
[Su-j Health (Acupressure Health)]http://web-acu.com/
[Su-j Health (Acupressure Health)]http://acu5.weebly.com/
.

Related Posts with Thumbnails