बता ऐ ज़िन्दगी..!!



बता ऐ ज़िन्दगी..!!
पृथक सा हर ज़गह रूप तूने पाया क्यूँ है..?
ले सवाल हर कोई तेरे पास आया क्यूँ है..?
ओस की बूंदों सी छलना दिखती क्यूँ है..?
पल भर की झलक फिर ओझल होती क्यूँ है..?

जोगेंद्र सिंह Jogendra Singh ( 22 जुलाई 2010_11:34 am )
.
बता ऐ ज़िन्दगी..!!SocialTwist Tell-a-Friend

Comments

3 Responses to “बता ऐ ज़िन्दगी..!!”

Udan Tashtari said...
24 July 2010 at 7:33 AM

सुन्दर चित्र,

27 July 2010 at 6:45 PM

yahi to zindagi hai...........aboojh paheli.

Post a Comment

Note : अपनी प्रतिक्रिया देते समय कृपया संयमित भाषा का इस्तेमाल करे।

▬● (my business sites..)
[Su-j Health (Acupressure Health)]http://web-acu.com/
[Su-j Health (Acupressure Health)]http://acu5.weebly.com/
.

Related Posts with Thumbnails