बेटियाँ...!!



ओस की बूंदों सी होती हैं बेटियाँ !
दिल से सलोनी ढोतीं हैं बेटियाँ !
दिल का मरहम भी होती है बेटियाँ !
दो कुलों की लाज होती है बेटियाँ !
कहते हैं करेगा नाम रौशन बेटा ही !
क्यूँ भूल जाते लगती है ठोकर उसी से !
अक्सर है भटकाता दर दर बेटा ही !
ना विधि का विधान ना दुनिया की रीत है !
लगती भार हैं यहाँ बहुतों को बेटियाँ !
वक़्त पड़े तो मरहम भी होती हैं बेटियाँ !
माँ की मासूम ममता सी होती हैं बेटियाँ !
वक़्त पर मित्र बहिन सी होती हैं बेटियाँ !
क्यों लगती भार यहाँ बहुतों को बेटियाँ !

__________जोगेंद्र सिंह ( 07 अप्रैल 2010 ___ 11:31 am )


बेटियाँ...!!SocialTwist Tell-a-Friend

Comments

2 Responses to “बेटियाँ...!!”

22 April 2010 at 9:46 PM

Jogi
Jhalak is really sweet and the Mother is charming!
Love to both.

5 May 2010 at 10:21 PM

yes Aparna ji... thanx for your lovely opinion...

Post a Comment

Note : अपनी प्रतिक्रिया देते समय कृपया संयमित भाषा का इस्तेमाल करे।

▬● (my business sites..)
[Su-j Health (Acupressure Health)]http://web-acu.com/
[Su-j Health (Acupressure Health)]http://acu5.weebly.com/
.

Related Posts with Thumbnails