जीवन

जीवन — सरोबार है जीवंत हर रंग सा !
जीवन — 14-हजार योनियों पश्चात मिली रब की नेमत सा !
जीवन — सदिच्छाओं का है दूसरा नाम !
जीवन — जन्मान्तरों के शुभ कर्मों का सुखद परिणाम !
जीवन — चिलचिलाती दोपहर की धूप में आगे बढ़ने का अहसास !
जीवन — कंठ-चुभती सूचियों के बोध से निजात की तीखी प्यास !
जीवन — ठहराव, स्थिरता, भरते घावों का अहसास !
जीवन — एक संन्यास समाज में तब्दीली का !
__________जोगेंद्र सिंह ( 25 अप्रैल 2010___03:42 pm )

(( Follow me on facebook >>> http://www.facebook.com/profile.php?id=100000906045711&ref=profile# ))
.
जीवनSocialTwist Tell-a-Friend

Comments

5 Responses to “जीवन”

29 April 2010 at 4:08 AM

Jogi, yahan to aap ek philosopher ke andaz se jivan ko samjha rahe hain. Aapse lagatar kuchh sikhne ko mil raha hai.Jivan -ek sanyaas samaj mein tabdili ka aur jivan ek tharav, sthirta, bharte ghavon ka ahasas - bahut sundar jivan darshan hai.

prakriti said...
29 April 2010 at 7:54 AM

ज़िंदगी
एक ऐसी पहेली
जिसका हल ढूंढते- ढूंढते ही
ख़त्म हो जाती है
पर उत्तर नही मिलता।

1 May 2010 at 11:30 PM

◊▬►► Aparna ji.. aap kuchh sikha bhi sakti hain.. mere liye to aapki baate bhi gyaan ho sakti hain..

◊▬►► प्रकृति दीदी.. आपका उत्तर भी एक प्रश्न बन गया है जो अब भी अनुत्तरित ही है...

Rakss Web said...
3 May 2010 at 10:21 PM

wow nice big brother

Post a Comment

Note : अपनी प्रतिक्रिया देते समय कृपया संयमित भाषा का इस्तेमाल करे।

▬● (my business sites..)
[Su-j Health (Acupressure Health)]http://web-acu.com/
[Su-j Health (Acupressure Health)]http://acu5.weebly.com/
.

Related Posts with Thumbnails